Header Ads

Cohesion और Coupling– software engineering in hindi



Cohesion और Coupling–
Content coupling - Common coupling-  Control coupling- Stamp coupling- Data coupling- , Functional , Sequential , procedural cohesin

CohesionCohesion एक माप(measure) है जो एक मॉड्यूल के तत्वों के अंदर अंतर निर्भरता की डिग्री को परिभाषित करता है जितना अधिक Cohesion प्रोग्राम डिजाइन के लिए उतना ही बेहतर।

Cohesion के 7 लेवल होते हैं

1)Co-incidental cohesion - यह अनियोजित(unplanned) तथा यादृच्छिक(random) Cohesion है । जोकि मॉड्यूलेशन के लिए छोटे मॉड्यूल में प्रोग्राम को तोड़ने का रिजल्ट हो सकता है क्योंकि यह unplanned होता है अतः यह प्रोग्रामर को कंफ्यूज कर सकता है । और आम तौर पर यह स्वीकार नहीं किया जा सकता है ।

2)Logical cohesion - - जब logically वर्गीकृत एलिमेंट को एक module से जोड़ दिया जाता है तो यह लॉजिकल Cohesion कहलाता है।

3)temporal cohesion- जब module के एलिमेंट को ऑर्गेनाइज किया जाता है तब उन्हें इस प्रकार ऑर्गेनाइज किया जाता है कि वह एक समय में सिमिलर पॉइंट में प्रोसेस्ड हो तो इसे temporal cohesion कहते हैं।

4)Procedural cohesion - जब मॉड्यूल के एलिमेंट को एक साथ ग्रुप किया जाता है जो कार्य निष्पादित करने के ऑर्डर में Sequentially परफॉर्म होते हैं , तो इसे Procedural cohesion कहते हैं।

5)Communicational cohesion - जब module के एलिमेंट को एक साथ ग्रुप किया जाता है जो कि Sequentially execute होते हैं और सामान डाटा पर काम करते हैं तो इसे Communicational cohesion कहते हैं।

6) Sequential cohesion- जब module के एलिमेंट को ग्रुप किया जाता है क्योंकि एक एलिमेंट का आउटपुट दूसरे के लिए इनपुट के रूप में कार्य करता है और उसी प्रकार प्रक्रिया चलती रहती है तो इसे Sequential cohesion कहते हैं

7)Functional cohesion - यह cohesion का highest degree माना जाता है और यह highly expected होता है।
Functional cohesion में module के एलिमेंट को ग्रुप किया जाता है क्योंकि यह सभी एक well-defined function में योगदान करते हैं और इस का पुनः उपयोग किया जा सकता है

Coupling–
coupling - एक माप है जो एक प्रोग्राम के module के बीच अंतर निर्भरता के स्तर को परिभाषित करता है यह बताता है कि किस स्तर पर module एक दूसरे के साथ interfare और interact करते हैं lower coupling - बेहतर प्रोग्राम

Content coupling - जब कोई module किसी अन्य मॉड्यूल की सामग्री को सीधे एक्सेस या संशोधित कर सकता है या संदर्भ(refer) करता है तो इसे Content level coupling कहते हैं।

Common coupling-  जब कई module कुछ global data को read और write करते हैं तो इसे सामान्य या global coupling कहा जाता है।

Control coupling- दो module को नियंत्रण coupling कहा जाता है अगर उनमे से कोई अन्य module के फंक्शन का निर्णय करता है या उसके execution के flow को बदलता है।

Stamp coupling- जब कई module को के common data structure साझा करते हैं और उनके विभिन्न हिस्से पर काम करते हैं तो इसे Stamp coupling कहा जाता है।

Data coupling- यह तब होता है जब दो module एक दूसरे के साथ डाटा पास करने के माध्यम से पैरामीटर के रूप में इंटरैक्ट करते हैं यदि एक मॉड्यूल parameter के रूप में जब data structure से गुजरता है तो प्राप्त module को अपने सभी घटकों (component) का उपयोग करना चाहिए

एक टिप्पणी भेजें